navratri 2020Religion

नवरात्र का तीसरा दिन-देवी चंद्रघंटा

नवरात्रि का तीसरा दिन देवी आदि शक्ति के एक विशिष्ट रूप को समर्पित है। इस दिन नवदुर्गा के चंद्रघंटा अवतार की पूजा की जाती है। चंद्रघंटा देवी को आध्यात्मिक और आंतरिक शक्ति की देवी कहा जाता है। 2020 में, शारदीय नवरात्रि तृतीया सोमवार 19 अक्टूबर 2020 को पड़ रही है।

माँ का तीसरा रूप

  1. पसंदीदा फूल: कमल
  2. दिन का रंग: लाल
  3. देवता: देवी चंद्रघंटा
  4. देवी चंद्रघंटा मंत्र: ‘ओम देवी चंद्रघंटायै नम:’
  5. पूजा तिथि: नवरात्रि का तीसरा दिन (तृतीया तिथि)
  6. सत्तारूढ़ ग्रह: शुक्र (शुक्रा)
  7. शारदीय नवरात्रि: सोमवार, 19 अक्टूबर 2020

चंद्रघंटा देवी के बारे में

chandraghanta aarti

देवी पार्वती सर्वशक्तिमान भगवान शिव की पत्नी हैं। एक विवाह के बाद, भगवान शिव ने देवी के माथे को चंदन से बने चूर्ण से सुशोभित किया। यही कारण है जिसके कारण उन्हें चंद्रघंटा के नाम से जाना जाता है।

यह माना जाता है कि वह जीवन की समस्याओं और बुराइओं को दूर करती है। उसके माथे पर शिव के अर्धचंद्र के साथ उनकी दस भुजाएं और तीन आंखें हैं। उनके मुँह पर तेज है । वह घंटियों का एक माला पहनती है जो राक्षसों को भयभीत करती है। वह एक बाघ की सवारी करती है और अपने भक्तों की रक्षा करती है। वह एक गोंग (बड़ी घंटी) रखती है और सिर पर आधे चाँद से सजी है।

यह भी पढ़ें – नवरात्रि 2020 तिथियाँ: नवरात्रि 2020 में कब शुरू होगी?

नवरात्रि तृतीय दिवस पूजा विधि

चंद्रघंटा

चंद्रघंटा पूजा नवरात्रि तृतीया तिथि को की जाती है। गंगाजल या गौमूत्र से शुद्ध करें। कलश स्थापन चांदी, तांबे या पृथ्वी के जल से भरे बर्तन पर नारियल रखकर करें। अब पूजा के लिए संकल्प लें और मां चंद्रघंटा की शोडोपचार पूजा करें। फिर सभी देवी-देवताओं को सभी प्रासंगिक पूजन समग्री चढ़ाएं। अंत में आरती करें और प्रसाद वितरित करें। दूध और दुग्ध उत्पादों के साथ मां चंद्रघंटा का आवाहन करें। यह मां चंद्रघंटा को प्रसन्न करता है और वह सभी बाधाओं को दूर करता है।

  1. आत्म पूजा: आत्म-शुद्धि के लिए की गई पूजा
  2. तिलक और आचमन: माथे पर तिलक लगाएं और हथेलियों से पवित्र जल पिएं।
  3. संकल्प: हाथ में जल लेकर देवी के सामने मनोकामना करना।
  4. आँवला और आसन: फूल चढ़ाएँ
  5. पहड़िया: देवी के चरण में जल चढ़ाएं।
  6. आचमन: कपूर (कपूर) मिश्रित जल अर्पित करें।
  7. दुग्धासन: स्नान के लिए गाय का दूध अर्पित करें
  8. घृत और मधुस्नान: स्नान के लिए घी और शहद अर्पित करें
  9. शकर और पंचामृतस्नान: शक्कर और पंचामृत स्नान कराएं।
  10. वस्त्र: पहनने के लिए साड़ी या कपड़ा भेंट करें।
  11. चंदन: देवता पर चंदन का तिलक लगाएं।
  12. कुमकुम, काजल, ध्रुवपात्र और बिल्वपत्र, धोपा और दीपम
  13. प्रसाद

महत्व

चंद्रघंटा देवी की कृपा से भक्तों में अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं। दिव्य सुगंधियों का अनुभव किया जाता है और कई प्रकार की आवाजें सुनी जाती हैं। माँ अपने भक्तों को हमेशा सभी बाधाओं से दूर रखती हैं और जीवन में खुशियाँ प्रदान करती हैं।

चंद्रघंटा की आरती

जय माँ चन्द्रघण्टा सुख धाम। पूर्ण कीजो मेरे काम॥
चन्द्र समाज तू शीतल दाती। चन्द्र तेज किरणों में समाती॥
मन की मालक मन भाती हो। चन्द्रघण्टा तुम वर दाती हो॥
सुन्दर भाव को लाने वाली। हर संकट में बचाने वाली॥
हर बुधवार को तुझे ध्याये। श्रद्दा सहित तो विनय सुनाए॥
मूर्ति चन्द्र आकार बनाए। शीश झुका कहे मन की बाता॥
पूर्ण आस करो जगत दाता। कांचीपुर स्थान तुम्हारा॥
कर्नाटिका में मान तुम्हारा। नाम तेरा रटू महारानी॥
भक्त की रक्षा करो भवानी।

यह भी पढ़ें – 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close
Close