Featurednavratri 2020Religion

यहां जानिए नवरात्रि के अंतिम दिन हवन कैसे करें

navratri havan mantra : आप सभी जानते हैं कि इस समय चैत्र नवरात्रि चल रही है और आज इस पवित्र त्योहार का आखिरी दिन है। ऐसी स्थिति में, नवरात्रि का समापन दुर्गा नवमी से होता है। आज नवमी है और कई लोग इस दिन अपना उपवास खोलते हैं। इस दिन घरों में हवन किया जाता है और साथ ही लड़कियों की पूजा की जाती है। आपको बता दें कि इस बार चैत्र नवरात्रि के नौवें दिन, राम नवमी का त्योहार भी मनाया जा रहा है और माना जाता है कि इस दिन भगवान राम का जन्म हुआ था। ऐसे में आज हम आपको इस दिन हवन करने के मंत्र बताने जा रहे हैं जिससे आपको लाभ मिलेगा।

navratri havan mantra

हवन सामग्री: सबसे पहले हम आपको बता दें कि दुर्गा नवमी के दिन सबसे पहले मां सिद्धिदात्री की विधि-विधान से पूजा करें। उसके बाद हवन आदि करके पूजा करें। एक सूखा नारियल या गोला, कलावा या लाल रंग का कपड़ा और हवन सामग्री के लिए एक हवन कुंड। इसके अलावा आम की लकड़ी, तना और पत्ती, चंदन, अश्वगंधा, ब्राह्मी, मुलेठी की जड़, पीपल का तना और छाल, बेल, नीम, पलाश, गूलर की छाल, कपूर, तिल, चावल, लौंग, गाय का घी, गुग्गल, गोघन। , इलायची, चीनी और जौ।

यह भी पढ़ें – दशहरा 2020 : तिथि, पूजा का समय, महत्व और दशहरा कैसे मनाया जाए

नवरात्रि हवन विधि: इसके लिए पूजा स्थान पर साफ-सुथरे स्थान पर हवन कुंड स्थापित करें। इसके बाद एक बड़े बर्तन में हवन सामग्री को अच्छी तरह से मिलाएं। इसके बाद, आम की लकड़ी को कपूर के साथ जलाएं। अब अग्नि प्रज्ज्वलित करने के बाद, घर के सदस्य इन मंत्रों के साथ बारी-बारी से यज्ञ करे।

Navratri havan mantra

navratri havan mantra

ओम गणेशाय नम: स्वाहा
ओम गौरियाय नम: स्वाहा
ओम नवग्रहाय नम: स्वाहा
ओम दुर्गाय नम: स्वाहा
ओम महाकालिकाय नम: स्वाहा
ओम हनुमते नम: स्वाहा
ओम भैरवाय नम: स्वाहा
ओम कुल देवताय नम: स्वाहा
ओम स्थान देवताय नम: स्वाहा
ओम ब्रह्माय नम: स्वाहा
ओम विष्णुवे नम: स्वाहा
ओम शिवाय नम: स्वाहा
ओम जयंती मंगलाकाली, भद्रकाली कपालिनी दुर्गा क्षमा शिवाधात्री स्वाहा
स्वधा नमस्तुति स्वाहा.
ओम ब्रह्मा मुरारी त्रिपुरांतकारी भानु: शशि भूमि सुतो बुधश्च: गुरुश्च शुक्र शनि राहु केतव सर्वे ग्रहा शांति करा भवंतु स्वाहा
ओम गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु, गुरुर्देवा महेश्वर: गुरु साक्षात् परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नम: स्वाहा.
ओम शरणागत दीनार्त परित्राण परायणे, सर्व स्थार्ति हरे देवि नारायणी नमस्तुते.

अब नारियल में कलावा या लाल कपड़ा बांध दें। उस पर पुरी, खीर, पान, सुपारी, लौंग, बतासा आदि डालकर हवन कुंड के बीच में रखें। फिर शेष हवन सामग्री पर पूर्ण आहुति मंत्र का पाठ करें, ओम पूर्णमद: गरीबनामिद् पूर्णं पुण्यं मृदच्यते, पुण्यं निर्धनमादे निर्मनाय विस्मयते स्वाहा। और उन्हें अग्नि कुंड में डाल दे। अंत में मां दुर्गा की आरती करें।

सम्बन्धित आर्टिकल

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close