AnalysisBiographiesHistory

रानी लक्ष्मीबाई जीवनी: जन्म, परिवार, जीवन इतिहास मृत्यु और कविता

रानी लक्ष्मी बाई पर निबंध

Hindi Essay on Rani Laxmi Bai (Jhasi ki Rani)

रानी लक्ष्मीबाई की जीवनी: लक्ष्मीबाई भारत के उत्तर प्रदेश में झांसी की मराठा रियासत की रानी थीं।

लक्ष्मीबाई, झाँसी की रानी भारत के उत्तर प्रदेश में झांसी की मराठा रियासत की रानी थीं। लक्ष्मीबाई ने 1857 में ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार के खिलाफ विद्रोह में सक्रिय रूप से भाग लिया।

रानी लक्ष्मीबाई: जन्म, परिवार और शिक्षा

jhansi ki rani

रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर, 1828 को मणिकर्णिका के रूप में एक ब्राह्मण परिवार में मोरोपंत तांबे (पिता) और भागीरथी सप्रे (माता) हुआ था। जब चार साल की थी तब लक्ष्मीबाई की माँ का देहांत हो गया। उनके पिता ने बिठूर जिले के पेशवा बाजी राव द्वितीय के लिए काम किया था।

रानी लक्ष्मीबाई को घर पर ही शिक्षित करा गया था और वह पढ़-लिख सकती थीं। उन्हें निशानेबाजी, घुड़सवारी, तलवारबाजी और मल्लखंभ के लिए भी प्रशिक्षित किया गया था।उनके तीन घोड़े थे – सारंगी, पावन और बादल।

रानी लक्ष्मीबाई: व्यक्तिगत जीवन

jhansi ki rani

मई 1852 में, मणिकर्णिका की शादी गंगाधर राव नयालकर (झाँसी के महाराजा) से हुई थी और बाद में परंपराओं के अनुसार उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया था। 1851 में, लक्ष्मीबाई ने दामोदर राव को जन्म दिया, जिनकी 4 महीने बाद मृत्यु हो गई। इस जोड़ी ने बाद में गंगाधर राव के चचेरे भाई को गोद लिया, जिसका नाम बदलकर दामोदर राव रखा गया। अनुकूलन की प्रक्रिया एक ब्रिटिश अधिकारी की उपस्थिति में की गई थी। महाराजा से अधिकारी को निर्देश के साथ एक पत्र सौंपा गया था कि गोद लिए गए बच्चे को उचित सम्मान दिया जाए और लक्ष्मीबाई को उसके पूरे जीवनकाल के लिए दिया जाए।

हालाँकि, नवंबर 1853 में, ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के महाराजा की मृत्यु के बाद, गवर्नर-जनरल लॉर्ड डलहौजी के नेतृत्व में डॉक्ट्रिन ऑफ़ लैप्स ( Doctrine of Lapse) लागू किया। इस नीति के तहत, दामोदर राव के सिंहासन के दावे को खारिज कर दिया गया क्योंकि उन्हें महाराजा और रानी के बेटे को गोद लिया गया था। मार्च 1854 में, लक्ष्मीबाई को रु 60,000 वार्षिक पेंशन के रूप में दिए जाने थे और महल छोड़ने के लिए कहा गया था।

यह भी पढ़ें – भारतीय इतिहास की महान महिलाये

रानी लक्ष्मीबाई: 1857 का विद्रोह

10 मई, 1857 को मेरठ में भारतीय विद्रोह शुरू हुआ। जब यह खबर झांसी पहुंची, तो लक्ष्मीबाई ने अपनी सुरक्षा बढ़ा दी और अपने लोगों को समझाने के लिए हल्दी कुमकुम समारोह आयोजित किया कि अंग्रेज कायर हैं और उन्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है।

जून 1857 में, 12 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री ने झांसी के किले को जब्त कर लिया, अंग्रेजों को हथियार डालने के लिए राजी किया और उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाया, लेकिन इन्फैंट्री अपने शब्दों पर नहीं रही और ब्रिटिश अधिकारियों का नरसंहार किया। हालाँकि, लक्ष्मीबाई का इस घटना में शामिल होना अभी भी बहस का विषय है।

सिपाहियों ने महल को उड़ाने के लिए लक्ष्मीबाई को धमकी दी, झांसी से भारी धनराशि प्राप्त की और इस घटना के 4 दिन बाद वहां से निकल गए।

ओरचिया और दतिया के राज्यों ने झांसी पर आक्रमण करने और उन्हें विभाजित करने का प्रयास किया। लक्ष्मीबाई ने ब्रिटिश सरकार से मदद की अपील की लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला क्योंकि ब्रिटिश अधिकारियों का मानना ​​था कि वह नरसंहार के लिए जिम्मेदार थीं।

23 मार्च, 1858 को, सर ह्यू रोज ने, ब्रिटिश सेनाओं के कमांडिंग ऑफिसर ने रानी से शहर को आत्मसमर्पण करने की मांग की और चेतावनी दी कि अगर उसने इनकार कर दिया, तो शहर नष्ट हो जाएगा। इसके लिए, लक्ष्मीबाई ने मना कर दिया और घोषणा की, ‘हम स्वतंत्रता के लिए लड़ेंगे । भगवान कृष्ण के शब्दों में, यदि हम विजयी हैं, तो हम जीत के फल का आनंद लेंगे, यदि युद्ध के मैदान में पराजित और मारे गए, तो हम निश्चित रूप से अनन्त महिमा और मोक्ष अर्जित करेंगे। ‘

24 मार्च, 1858 को, ब्रिटिश सेना ने झांसी पर बमबारी की। झांसी के रक्षकों ने लक्ष्मीबाई के बचपन की दोस्त तात्या टोपे के पास अपील भेजी। तात्या टोपे ने इस अनुरोध का जवाब दिया और 20,000 से अधिक सैनिकों को ब्रिटिश सेना के खिलाफ लड़ने के लिए भेजा। हालांकि, सैनिक झांसी को राहत देने में विफल रहे। जब विनाश जारी रहा, रानी लक्ष्मीबाई अपने बेटे के साथ अपने घोड़े बादल पर किले से भाग निकलीं। बादल की मौत हो गई लेकिन उनमें से दो बच गए।

इस दौरान, वह अपने गुर्गों- खुदा बख्श बशारत अली (कमांडेंट), गुलाम गौस खान, दोस्त खान, लाला भाऊ बख्शी, मोती बाई, सुंदर-मुंदर, काशी बाई, दीवान रघुनाथ सिंह और दीवान जवाहर सिंहकी वजह से बच गई। वह मुट्ठी भर गार्ड के साथ चुपके से कपाली के लिए रवाना हो गया और तात्या टोपे सहित अतिरिक्त विद्रोही बलों में शामिल हो गया। 22 मई, 1858 को, ब्रिटिश सेनाओं ने कपाली पर हमला किया और लक्ष्मीबाई हार गई।

रानी लक्ष्मीबाई, तात्या टोपे और राव साहब कपाली से ग्वालियर भाग गए। इन तीनों ने शहर की रक्षा करने के लिए भारतीय सैनिको के साथ शामिल हो गए। वे अपने सामरिक महत्व के कारण ग्वालियर किले पर कब्जा करना चाहते थे।

विद्रोही ताकतों ने किसी भी विरोध का सामना किए बिना शहर पर कब्जा कर लिया और नाना साहिब को मराठा प्रभुत्व की पेशवा और राव साहिब को अपने राज्यपाल के रूप में घोषित किया। लक्ष्मीबाई अन्य विद्रोही नेताओं को बल का बचाव करने के लिए राजी नहीं कर पाई और 16 जून, 1858 को ब्रिटिश सेना ने ग्वालियर पर एक सफल हमला किया।

यह भी पढ़ें – भारतीय की श्रेष्ठा महिला एथलीट्स

रानी लक्ष्मीबाई: मृत्यु

jhansi ki rani

17 जून को, ग्वालियर के फूल बाग के पास कोताह-की-सेराई में, ब्रिटिश सेनाओं ने रानी लक्ष्मीबाई द्वारा कमांड की गई भारतीय सेनाओं पर विद्रोह का चार्ज लगाया। ब्रिटिश सेना ने 5,000 भारतीय सैनिकों को मार डाला। रानी लक्ष्मीबाई बिना घोड़े के थीं और घायल हो गईं थीं।

उनकी मौत पर दो विचार हैं: कुछ लोगों का कहना है कि वह सड़क किनारे खून बह रहा था और पहचानने पर सैनिक ने उनपर पर गोलीबारी की। हालांकि, एक और विचार यह है कि वह एक घुड़सवार नेता के रूप में थी और बुरी तरह से घायल थी। रानी नहीं चाहती थीं कि ब्रिटिश सेनाएं उनके शरीर को पकड़ें और इसे जलाने के लिए हर्मिट से कहा। 18 जून, 1858 को रानी लक्ष्मीबाई का निधन हो गया।

रानी लक्ष्मी बाई पर कविता

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।
चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी,
बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी।
वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार।
महाराष्टर-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में,
चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव से मिली भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई,
तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई,
रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई।
निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया।
अश्रुपूर्णा रानी ने देखा झाँसी हुई बिरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया।
रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों-बात,
कैद पेशवा था बिठुर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपुर, तंजौर, सतारा, करनाटक की कौन बिसात?
जबकि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात।
बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी रोयीं रिनवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार,
उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार,
‘नागपूर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार’।
यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान।
हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,
मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचाई थी,
जबलपूर, कोल्हापूर में भी कुछ हलचल उकसानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम,
अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम।
लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बड़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुया द्वन्द्ध असमानों में।
ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार,
घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार।
अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी रजधानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी,
अबके जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहँ की खाई थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी,
युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी।
पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।


तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार,
किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये अवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार।
घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी,
दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी,
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी।
तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

By: सुभद्रा कुमारी चौहान

# रानी लक्ष्मीबाई से जुड़ी कुछ प्रश्नोत्तर

रानी लक्ष्मीबाई के बेटे का क्या नाम था

मई 1852 में, मणिकर्णिका की शादी गंगाधर राव नयालकर (झाँसी के महाराजा) से हुई थी और बाद में परंपराओं के अनुसार उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया था। 1851 में, लक्ष्मीबाई ने दामोदर राव को जन्म दिया, जिनकी 4 महीने बाद मृत्यु हो गई। इस जोड़ी ने बाद में गंगाधर राव के चचेरे भाई को गोद लिया, जिसका नाम बदलकर दामोदर राव रखा गया। अनुकूलन की प्रक्रिया एक ब्रिटिश अधिकारी की उपस्थिति में की गई थी। महाराजा से अधिकारी को निर्देश के साथ एक पत्र सौंपा गया था कि गोद लिए गए बच्चे को उचित सम्मान दिया जाए और लक्ष्मीबाई को उसके पूरे जीवनकाल के लिए दिया जाए।

रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु कब हुई

17 जून को, ग्वालियर के फूल बाग के पास कोताह-की-सेराई में, ब्रिटिश सेनाओं ने रानी लक्ष्मीबाई द्वारा कमांड की गई भारतीय सेनाओं पर विद्रोह का चार्ज लगाया। ब्रिटिश सेना ने 5,000 भारतीय सैनिकों को मार डाला। रानी लक्ष्मीबाई बिना घोड़े के थीं और घायल हो गईं थीं।

18 June 1858 को उनकी मृत्यु हो गयी थी।

रानी लक्ष्मी बाई की तलवार का वेट

3.308 किग्रा रानी लक्ष्मी बाई तलवार का वेट था ।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close
Close