AnalysisNews

राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस 2020: इस दिन का इतिहास और महत्व

लघु उद्योग पर निबंध

लघु उद्योग:लघु उद्योग निजी तौर पर छोटे निगमों के मालिक या सीमित संसाधनों और मानव शक्ति के साथ काम करने वाले उद्योग हैं। छोटे पैमाने के उद्योग स्थानीय रोजगार के अवसरों में आवयशक योगदान करते हैं ,साथ ही औद्योगिक उत्पादकता और निर्यात को भी बढ़ाते हैं, जिसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

निवेश के आधार पर लघु उद्योग के प्रकार:

सर्विस मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर सर्विस सेक्टर
माइक्रो
25 लाख से कम
10 लाख से कम
छोटा25 लाख से ज्यादा, 5 करोड़ से कम
10 लाख से ज्यादा, 2 करोड़ से कम
मध्यम5 करोड़ से ज्यादा, दस करोड़ से कम
2 करोड़ से ज्यादा, 5 करोड़ से कम

भारत में लघु उद्योगों की सूची:

laghu udyog diwas
लघु उद्योग ग्रामीण रोजगार, ग्रामीण क्षेत्र का विकास और शहरों में जनसंख्या प्रवास को भी कम करता है।

भारत में 21 लघु उद्योग हैं और 7500 से अधिक उत्पाद निर्मित होते हैं। उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं :-

  • सूती वस्त्र इलेक्ट्रिकल और मशीनरी पार्ट्स
  • खाद्य उत्पाद
  • रासायनिक उत्पाद
  • रबर और प्लास्टिक उत्पाद
  • धातु उत्पाद काष्ठ उत्पाद
  • कागज उत्पाद और मुद्रण
  • चमड़ा और चमड़ा उत्पाद
  • पेय पदार्थ और तम्बाकू

लघु उद्योग के कई लाभ हैं; छिपी हुई प्रतिभा और स्थानीय कारीगरी के कौशल को प्रोत्साहित करते हुए अलग अलग तरह के उत्पाद बनाएं जा सकते हैं । यह ग्रामीण रोजगार, ग्रामीण क्षेत्र का विकास और शहरों में जनसंख्या प्रवास को भी कम करता है।लघु उद्योग में भूमि और स्थानीय संसाधनों का अधिकतम उपयोग किया जाता है।

लघु उद्योग की समस्या

इन लघु उद्योगों को अपना अस्तित्व बचाना कठिन हो गया है और उनके लिए उचित समर्थन की आवश्यकता है।बढ़ती प्रतिस्पर्धा , निवेश की कमी जैसी कई कठिनाइयों का सामना करते हैं। उनमें से कुछ ही अपने उत्पाद का बाजार मूल्य और उन्हें कैसे बाजार में लाना है यह जानते हैं। उन्हें नवीनतम प्रौद्योगिकी और डिजिटल ई-कॉमर्स में शिक्षित करने की भी आवश्यकता है जो उन्हें बढ़ती प्रतिस्पर्धा में भी बने रहने में मदद करेगा ।

यह भी पढ़ें – Unlock 4.0: 1 सितंबर से क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस :

भारत में उत्पादों के सकल उत्पादन का 40% लघु उद्योगों द्वारा आपूर्ति की जाती है; यह भारतीय विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस मान्यता को स्वीकार करते हुए भारत सरकार ने 30 अगस्त 2000 को लघु उद्योग का समर्थन करने के लिए एक नीति की घोषणा की और 30 अगस्त को राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस या राष्ट्रीय औद्योगिक दिवस प्रतिवर्ष मनाने का निर्णय लिया।

इस लघु उद्योग दिवस पर, चयनित लघु उद्यमियों को राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाते हैं और सुधार के लिए खुली चर्चा होती है। ये कार्यक्रम राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा आयोजित किए जाते हैं।

राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस हर साल अलग-अलग थीम के साथ मनाया जाता है और इनोवेटिव उत्पादों को प्रदर्शित किया जाता हैं। पूरे देश में शिक्षाप्रद व्याख्यान और जागरूकता शिविर आयोजित किए जाते हैं।

राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस क्या है?

लघु उद्योगों का भारतीय विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करते हुए भारत सरकार ने 30 अगस्त 2000 को लघु उद्योग का समर्थन करने के लिए एक नीति की घोषणा की और 30 अगस्त को राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस या राष्ट्रीय औद्योगिक दिवस प्रतिवर्ष मनाने का निर्णय लिया।

राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस कब मनाया जाता है?

30 अगस्त को राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस या राष्ट्रीय औद्योगिक दिवस प्रतिवर्ष लघु उद्योगों का भारतीय विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका को मान्यता देते हुए और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है।

#सम्बंधित:- आर्टिकल्स

Tags

Related Articles

Close
Close