Analysisgandhi jayantiHistory

गांधीवादियों के लिए अच्छा विकल्प है, गाँधी हेरिटेज साइट्स मिशन…

देशभर में ही नहीं अपितु मोहनदास करमचंद गांधी को महात्मा अर्थात ‘महान आत्मा’ के रूप में जाना जाता है। वह एक चतुर राजनीतिक प्रचारक थे, जिन्होंने लम्बे समय तक ब्रिटिश शासन से भारतीय स्वतंत्रता के लिए और भारतीय गरीबों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी।

गांधी हेरिटेज साइट्स पैनल की सिफारिश पर भारत सरकार ने महात्मा गांधी की मूर्त और अमूर्त विरासत के संरक्षण, संरक्षण और प्रसार के लिए गांधी हेरिटेज साइट्स मिशन की शुरुआत की।

गांधी हेरिटेज साइट मिशन

महात्मा गांधी की मृत्यु के बाद एक समय ऐसा आया जब भारत सरकार ने गांधी के पोते गोपालकृष्ण गांधी के नेतृत्व में पैनल का गठन किया, जिसमें 2006 में महात्मा गांधी की मूर्त और अमूर्त विरासत का अध्ययन करने के लिए निर्मला देशपांडे, बीआर नंदा, नारायण देसाई और रामचंद्र गुहा जैसे लोग शामिल थे।

पैनल की सिफारिश पर, भारत सरकार ने महात्मा गांधी से जुड़े स्थानों और स्थानों के विकास, संरक्षण और संरक्षण के लिए 29 जुलाई, 2013 को गांधी विरासत स्थल मिशन की स्थापना की।

यह मिशन, गांधी द्वारा उनके जीवन और उनके दर्शन से अभिन्न रूप से जुड़े रहने के लिए पैनल द्वारा चिन्हित 39 साइटों पर काम करेगा। इनमें गुजरात में राजकोट और पोरबंदर, चेन्नई में तिलक घाट, मुंबई में मणि भवन, कोलकाता में बेलियाघाट, पुणे में यरवदा जेल और मदुरै में जगह है जहाँ गांधी ने अपने एकमात्र कपड़ों के रूप में लोन-कपड़ा अपनाया था। इसमें दक्षिण अफ्रीका, यूनाइटेड किंगडम, मॉरीशस, म्यांमार, श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश के कुछ विदेशी स्थान भी शामिल हैं।

गांधी विरासत स्थल मिशन के उद्देश्य

  1. इसके प्रबंधन और परिनियोजन के लिए ‘गांधी धरोहर’ की सामग्री की जानकारी की पहचान, संयोजन और मूल्यांकन।
  2. संरक्षण पद्धति और प्राथमिकताओं का निर्धारण, इसके लिए: विशेष रूप से अभिलेखीय भंडारण और संगीत विज्ञान के दृष्टिकोण से होल्डिंग-दस्तावेज और ऑब्जेक्ट; भौतिक संरचनाएं और साइटें, और उनके बाद के रखरखाव के लिए दिशानिर्देश।
  3. (i) और (ii), के माध्यम से प्रासंगिक जानकारी के आधार पर सामग्री का प्रसार: (i) एक वेब-आधारित पोर्टल; (ii) प्रकाशन, ऑडियो / विजुअल (सीडी, डिजिटल प्रिंट आदि); (iii) निर्दिष्ट करते समय कोर साइटों के माध्यम से “संचार” और जहां आवश्यक – कार्य और साइट का उपयोग और महत्व।

हाल ही में भारत में इस मिशन ने गांधी विरासत स्थलों के संरक्षण / बहाली और संरक्षण की पहल की है जो एक लागतार चलने वाला अभ्यास है और तारीफ-ए-काबिल है।

Tags

Javed Ali

जावेद अली जामिया मिल्लिया इस्लामिया से टी.वी. जर्नलिज्म के छात्र हैं, ब्लॉगिंग में इन्हें महारथ हासिल है...

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close
Close